लहसुन है अमृत लेकिन 99% लोग नही जानते इसे खाने का सही तरीका || Lehsun Kaise Khaye || Life Hacks

लहसुन अनेक औषधीय गुणों की खान हैं। लहसुन का सेवन बारह महीने ही अच्छा माना जाता है, लहसुन के एक कली रोजाना खाने से शरीर को कई तरह के लाभ होते हैं। इस से आप अनेक भयंकर बीमारियो से बचे रहेंगे। चलिए आज जानते हैं लहसुन के कुछ ऐसे ही गुणों के बारे में…..

कॉलेस्ट्रॉल

कॉलेस्ट्रॉल की समस्या से परेशान लोगों के लिए लहसुन का नियमित सेवन अमृत साबित हो सकता है।लहसुन में एंटीक्लाॅटिंग गुण होते है जो खून को पतला करने में सहायक होते हैं और शरीर में खून के थक्के बनने से रोकते है। इससे चोट लगने के बाद, खून बहने का डर भी नहीं रहता है।

हार्ट – अटैक और एथ्रेरोस्लेरोसिस

लहसुन हमारे दिल को सुरक्षित बनाएं रखने में मदद करता है और हार्ट – अटैक और एथ्रेरोस्लेरोसिस से होने वाली दिक्कतों से बचाता है। इसमें दिल को सुरक्षित रखने वाले तत्व होते है। जिनके सेवन से दिल को आसानी से स्वस्थ बनाया जा सकता है। उम्र के साथ, धमनियां खिंचाव करने की क्षमता खो देती है। लहसुन, इसे कम कर देता है और दिल को ऑक्सीजन रेडीकल्स के प्रभाव से बचाता है ताकि हार्ट को कोई नुकसान न पहुंचे। इसके सल्फर युक्त यौगिक हमारी रक्त वाहिकाओं को अवरूद्ध होने से बचाता है जिसकी वजह से एथ्रेरोस्लेरोसिस की दिक्कत खत्म हो जाती है। लहसुन की एंटी – क्लॉटिंग प्रॉपर्टी, रक्त वाहिकाओं में खून के थक्के बनाने से रोकती है।

हाई-बीपी से बचाए:-

कई लोगों का मानना है कि लहसुन खाने से हाइपरटेंशन के लक्षणों से आराम मिलता है। यह न केवल ब्लड सर्कुलेशन को नियमित करता है, बल्कि दिल से संबंधित समस्याओं को भी दूर करता है। साथ ही, लीवर और मूत्राशय को भी सुचारू रूप से काम करने में सहायक होता है।

मर्दाना ताक़त।

लहसुन नियमित सेवन करने से मरदाना ताक़त भी बढ़ती हैं, अपने उत्तेजना भर देने वाले गुणों के कारण कमज़ोर हो चुकी इन्द्रियों में जोश भर देता हैं लहसुन।

डायरिया दूर करे: :-

पेट से जुड़ी समस्याओं जैसे डायरिया आदि के उपचार में भी लहसुन रामबाण का काम करता है। कुछ लोग तो यह दावा भी करते हैं कि लहसुन तंत्रिकाओं से संबंधित बीमारियों को दूर करने में बहुत लाभकारी होता है, लेकिन केवल तभी जब इसे खाली पेट खाया जाए।

डिटॉक्सिफिकेशन वैकल्पिक उपचार:-

जब डिटॉक्सिफिकेशन की बात आती है तो वैकल्पिक उपचार के रूप में लहसुन बहुत प्रभावी होता है। लहसुन शरीर को सूक्ष्मजीवों और कीड़ों से बचाता है। अनेक तरह की बीमारियों जैसे डाइबिटीज़, ट्युफ्स, डिप्रेशन और कुछ प्रकार के कैंसर की रोकथाम में भी यह सहायक होता है।

श्वसन तंत्र को मजबूत बनाएं:-

लहसुन श्वसन तंत्र के लिए बहुत लाभदायक होता है। यह अस्थमा, निमोनिया, ज़ुकाम, ब्रोंकाइटिस, पुरानी सर्दी, फेफड़ों में जमाव और कफ आदि की रोकथाम व उपचार में बहुत प्रभावशाली होता है।

ट्यूबरकुलोसिस T.B. में लाभकारी :-

ट्यूबरकुलोसिस (तपेदिक) में लहसुन पर आधारित इस उपचार को अपनाएं। एक दिन में लहसुन की एक पूरी गांठ खाएं। टी.बी में यह उपाय बहुत असरदार साबित होता है, अगर आपको लहसुन की गंध पसंद नहीं है कारण मुंह से बदबू आती है। मगर लहसुन खाना भी जरूरी है तो रोजमर्रा के लिये आप लहसुन को छीलकर या पीसकर दही में मिलाकर खाये तो आपके मुंह से बदबू नहीं आयेगी। लहसुन खाने के बाद इसकी बदबू से बचना है तो जरा सा गुड़ और सूखा धनिया मिलाकर मुंह में डालकर चूसें कुछ देर तक, बदबू बिल्कुल निकल जायेगी।

खून की कमी

जिनके शरीर में खून की कमी है, उन्हें लहसुन का सेवन जरूर करना चाहिए, इसमें पर्याप्त मात्रा में लौह तत्व होता है जो कि रक्त निर्माण में सहायक है। लहसुन में विटामिन सी होने से यह स्कर्वी रोग से भी बचाता है।

वजन कम करने में

लहसुन के नियमित सेवन से वजन को घटाया जा सकता है, क्योंकि इसमें हमारे शरीर में बनने वाली वसा कोशिकाओं को विनियमित करने की क्षमता है जिससे वजन आसानी से घट जाता है। कच्चे लहसुन का लाल मिर्च के साथ चटनी बनाकर नियमित रूप से खाने पर वजन कंट्रोल में आ जाता है।

एंटी – इंफ्लामेटरी

लहसुन में एंटी – इंफ्लामेटरी प्रॉपर्टी होती है। जिसकी मदद से एलर्जी को दूर भगाया जा सकता है। इसलिए अगर आप किसी तरह की एलर्जी से परेशान हों तो रोजाना लहसुन की एक कली को पानी से निगल लें व अपने भोजन में लहसुन को शामिल करें।

कफ और जुकाम

ठंड या बदलते मौसम में अक्सर किसी भी उम्र के लोगों को कफ और जुकाम जैसी परेशानी हो तो लहसुन के काढ़े का सेवन करें।

कैंसर

कैंसर के प्रति शरीर की प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि करता है। लहसुन में कैंसर निरोधी तत्व होते हैं। यह शरीर में कैंसर बढऩे से रोकता है। लहसुन के सेवन से ट्यूमर को 50 से 70 फीसदी तक कम किया जा सकता है।

Watch Video Here↓

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *