शरीर के इस अंग पर आज ही बांधे काला धागा हर चीज होगी आपके कदमो में | Vastu Benefits Of The Black Thread | Vastu Tips For Wealth

आजकल लोग बहुत बुरी नजर का शिकार होते है। हमारे बड़े बुजुर्ग कहते है कि किसी भी शुभ कार्य में काले कपड़े नहीं पहनने चाहिए क्यूंकि काले कपड़े से चारों को नकारात्मकता फ़ैल जाती है। लेकिन जैसे ही बुरी नजर का ख्याल मन में आता है तो हमे सिर्फ काले रंग का ही ध्यान आता है।

अक्सर बुरी नजर से बचने के लिए काले रंग की चीजों का इस्तमाल किया जाता है जैसे काला टीका, काला धागा या फिर काला तिल। छोटे हो या बड़े हर किसी को बुरी नजर से बचाने के लिए उन्हें काला धागा बांधा जाता है। बचपन से ही दादी और नानी की दी सीख को निभाते हुए काले धागे लोग बांधते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि आखिर क्यों बांधते हैं काला धागा। काला धागा पहनने या काला टीका लगाने की परंपरा प्राचीन काल से चली आ रही है कुछ लोग इसे अंधविश्वास से अधिक कुछ भी नहीं मानते। सामान्य समझ के अनुसार काला रंग, नजर लगाने वाले की एकाग्रता को भंग कर देता है। इसके कारण नकारात्मक ऊर्जा संबंधित व्यक्ति को प्रभावित नहीं कर पाती।

काला धागा बांधने के पीछे वैज्ञानिक कारण भी हैं। हमारा शरीर पंच तत्वों से मिलकर बना है। ये पंच तत्व हैं- पृथ्वी, वायु, अग्नि, जल और आकाश। इनसे मिलने वाली ऊर्जा ही हमारे शरीर का संचालन करती हैं। इनसे मिलने वाली ऊर्जा से ही हम सभी सुविधाओं को प्राप्त करते हैं। जब किसी इंसान की बुरी नजर हमारी सुविधाओं को लगती है तब इन पंच तत्वों से मिलने वाली संबंधित सकारात्मक ऊर्जा हम तक नहीं पहुंच पाती है। इसीलिए, गले में काला धागा बांधा जाता है।

काला धागा नजर से तो बचाता ही है साथ ही काला धागा मालामाल भी बना सकता है। अगर आप चाहते है कि आपके वारे न्यारे हो जाए तो आपको काले धागे का एक सरल व छोटा सा उपाय बता रहे है।

बाजार से रेशमी या सूती धागा ले आयें और किसी भी मंगलवार या शनिवार की शाम को ये काला धागा हनुमानजी के मंदिर ले जाएँ। इस धागे में नौ छोटी-छोटी गाँठ लगा लें और हनुमानजी के पैरों का सिंदूर लगा लें। अब इस धागे को घर के मुख्य दरवाजे पर बाँध दें या तिजोरी पर बांध दें। इसके एक छोटे से उपाय से आप जल्दी ही मालामाल बन जायेंगे।

Watch Video Here↓

Please follow and like us:
One comment Add yours

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *